Best Hindi Sad Shayari Kaise laphjo Me Bya Kru

अपनी हालत का खुद एहसास नहीं है मुझ को,
मैं ने औरों से सुना है के परेशां हूँ मैं

ek din hm aapse itne dur ho jayenge

एक दिन हम आपसे इतने दूर हो जायेंगे,
के आसमान के इन तारो में कही खो जायेंगे,
आज मेरी परवाह नहीं आपको,
पर देखना एक दिन हद से ज्यादा,
हम आपको यादआएंगे

ik aas hai tujhse milne ki

इक आस है तुझसे मिलने की।
दुख -सुख दिल के कहने की।।
छोड के तेरी ठंडी छाया को।
जो देती है हिम्मत जलने की।

koi milta nahi udas chehare se aaj kal

कोई मिलता नहीं उदास चहरे से आजकल
ख़ुशी तो अकेलेपन का डर है,
देखले अगर कोई हमे ,
टूट जाये गुरुर समंदर का भी ..

kahti hai duniya jise pyar

कहती है दुनिया जिसे प्यार, नशा है , खताह है!
हमने भी किया है प्यार , इसलिए हमे भी पता है!
मिलती है थोड़ी खुशियाँ ज्यादा गम!
पर इसमें ठोकर खाने का भी कुछ अलग ही मज़ा है!

kaise lphjo me bya karu

कैसे लफ़्ज़ों में बया करूं
खूबसूरती को तुम्हारी,
नूर का झरना भी तुम हो,
और इश्क का दरिया बजी तुम हो

kitna mushkil hai jindgi ka ye sphar

कितना मुश्किल है ज़िन्दगी का ये सफ़र,
खुदा ने मरना हराम किया लोगो ने जीना।

kismt mere ye inteham le rhi hsi

किस्मत यह मेरा इम्तेहान ले रही है
तड़पकर यह मुझे दर्द दे रही है
दिल से कभी भी मैंने उसे दूर नहीं किया
फिर क्यों बेवफाई का वह इलज़ाम दे रही है

sanso ki dori chhutato ja rhi hai

सांसों की डोर छूटती जा रही है
किस्मत भी हमे दर्द देती जा रही है
मौत की तरफ हैं कदम हमारे
मोहब्बत भी हम से छूटती जा रही है

njro se dekho tohe aabad hme

नज़रों से देखो तोह आबाद हम हैं
दिल से देखो तोह बर्बाद हम हैं
जीवन का हर लम्हा दर्द से भर गया
फिर कैसे कह दें आज़ाद हम हैं

nase me bhi tera nam lab par aat haia

नशे में भी तेरा नाम लब पर आता है
चलते हुए मेरे पाँव लड़खड़ाते हैं
दर्द सा दिल में उठता है मेरे
हसीं चेहरे पर भी दाग नजर आता है

mt pucch ye ki mai tujhe bhul nahi skata

मत पूछ ये की मैं तुझे भुला नहीं सकता
तेरी यादों के पन्ने को मैं जला नहीं सकता
संघर्ष यह है कि खुद को मारना होगा
और अपने सुकून की खातिर तुझे रुला नहीं सकता

krne lage jab sikwa

करने लगे जब शिकवा उससे उसकी बेवफाई का
रख कर होठो से होठो को खामोश कर दिया

lb khamosh hai dil bhi udash hai

लब खामोश है दिल भी उदास है,
मुद्दतों से जैसे जिंदगी लापता हो।

apno ke bich begane ho gaye

अपनों के बीच बेगाने हो गए हैं
प्यार के लम्हे अनजाने हो गए हैं
जहाँ पर फूल खिलते थे कभी
आज वहां पर वीरान हो गए हैं

hm ishk ke wo mokam par khade hai

हम इश्क़ के वो मुकाम पर खड़े है
जहाँ दिल किसी और को चाहे तो गुन्हा लगता है

ek sans sbko hise se har pal hat jati hai

एक साँस सबके हिस्से से, हर पल घट जाती है,
कोई जी लेता है जिंदगी तो किसी की कट जाती है।

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *